कागज़ दिल से तस्वीर मिटाना मुश्किल है

धड़कन ही थम जाए तो ज़िंदा रह पाना मुश्किल है ।
अब कागज़ दिल से तेरी तस्वीर मिटाना मुश्किल है ।

वो जो नशीली आँखों के पीछे लग के घर छोड़ गया ,
उस दिल का सीने में वापिस लौट के आना मुश्किल है ।

जिन आँखों में घंटों अपना चहरा देखा करते थे ,
अब पल भर भी उन आँखों से आँख मिलाना मुश्किल है ।

‘ जम्मू’ से मत बहस करो वो अक्ल की बात न मानेगा ,
वो दीवाना है , दीवाने को समझाना मुश्किल है ।

मुझ जैसे कच्चे शायर को मंच मुहय्या करवाया ,
इसके लिए कागज़ दिल का एहसान चुकाना मुश्किल है ।

         

Share: