काग़ज़ दिल अरमान

 

काग़ज़ दिल अरमां मेरे , 

                  लिखूँ दिल की बात यहाँ

बिखरे से थे जो लफ्ज़ मेरे , 

                  सम्हालूँ वो जज़्बात यहाँ

 

खुले से थे जो वर्क़ मेरे, 

                   बन गए इक किताब यहाँ

रंग थे सब बेरंग से मेरे, 

                   बन गए वो सतरंग यहाँ

 

काग़ज़ दिल अरमां मेरे, 

                     लिखूँ दिल की बात यहाँ

बिखरे से थे जो लफ्ज़ मेरे, 

                      सम्हालूँ वो जज़्बात यहाँ

         

Share: