हाल – ए – दिल – काग़ज़ दिल

करें खुदा से या साजन से तर्क मोहब्बत का लिख दो तुम
करता कौन मोहब्बत सच्ची फर्क मोहब्बत का लिख दो तुम
जीवन पूरा काट दिया है विन साजन विन प्यार के
कागज दिल है कोरा कोरा हर्फ़ मोहब्बत का लिख दो तुम
अवनेश कबीर✍

         

Share: