अंधेरों से परे

तेरे साये के ही नीचे है उजाला तेरा
जलता बुझता है तेरी आँख में सितारा तेरा

झाँकना होगा तुझको तेरे अंधेरों से परे
तब आएगा नजर तुझे कोई किनारा तेरा

★वन्दना★

         

Share: