एतबार

कर के वादा जो तोड़ देता है।
उस पे फिर एतबार कौन करे।
जो न समझे हमारी चाहत को।
ऐसे पत्थर से प्यार कौन करे।।

  ©अंशु कुमारी

         

Share: