खंजर का रोना

कभी तो जहां का कभी घर का रोना
कभी रोये इंसां मुक़द्दर का रोना

कभी दोस्तो की शिकायत जहां से
कभी पीठ में यार ख़ंजर का रोना..

         

Share: