ढूंढता हूँ

दे पता हुआ बेपता पता ढूंढता हूँ ।
गुम हुआ कहाँ वो मकां ढूंढता हूँ ।

था ऐतबार जिस साहिल पर ,
उस साहिल में वफ़ा ढूंढता हूँ ।
….. विवेक दुबे”निश्चल”@..

         

Share: