नज़्म

मैं नज़्म लिखूं या कि फिर कोई ग़ज़ल
ज़ख्म बन यादें तेरी,क्यूं खींची आतीं हैं।
फासले यूं ही नहीं आए दरमियां हरपल,
तेरे लफ़्ज़ों की चुभन,तीर से चुभाती है।
है हर हर्फ मेरे दिल का फ़साना निश्छल,
आंखें मूंदूं तो तेरी छुअन सहलाती है।
कर सब्र माना नीलम ह़क में नहीं ये पल
मत भूल कि समय ख़ुद में करामाती है।
नीलम शर्मा ✍️

         

Share: