हौसले बुलंद लिए,करते जतन देखा

हौसले बुलंद लिए,करते जतन देखा
रूठो को मनाने का लोगो में फ़न देखा

कमज़र्फ लोगो का रोज़ मरता ईमान
थोड़े से लालच में बेचते ईमान देखा

मन को अपने ऐसे सब तरफ घुमाते
चाँद तारो से घिरा अपना गगन देखा

सरहद में जंग से जूझते हमारे सैनिक
नेताओ को सियासत करते वतन देखा

नौजवानों के यहाँ भटकते कदम देखा
बुरी संगतों में लगते यहाँ लगन देखा

हैरत में हैं अब यहाँ ये देखकर “आकिब””
अपनी तरक्की देख दूसरे की जलन देखा।।

-आकिब जावेद

         

Share: