आईना

आईना यकसर बजिद था तोङ दे बातिल का दिल

तो उसे इन्साफ के मन्दिर में ला कर रख दिया

अरशद साद

         

Share: