इज़हार….

धुन लगी थी हमें इक तेरा साथ पाने की..
कोशिशें नाकाम रहीं, नज़र लग गई ज़माने की।।
“अश्विन ख्य़ाल”

         

Share: