इज़हार

दिल की कही यकीनन दिलों को छू जाती है..
यही ख्य़ाल लिए काग़ज़-ए-दिल पर लिखे जा रहा हूँ मैं।।
“अश्विन ख्य़ाल”

         

Share: