गठरी

गठरी उसकी यादों की हम बांध कर “हामिद”
यूँ निकले इस शहर में जैसे कोई अपना न था

         

Share: