घर

अब तक दिला रहा था दुनियां में घर को जो
वो ही निराश गुजरा अब छत की कमी से।
रेखा मोहन १८ /६/२०१८

         

Share: