दूरियाँ

दूर हो इतने नज़र वहाँ तक नहीं जाती
क़रीब इतने कि रूह में समाए हो जैसे

         

Share: