बचपना

बचपने से बड़ी दुआ नहीं कुछ
दौर- ए-हाज़िर की बद्हवा नहीं कुछ
भरत दीप

         

Share: