बैठा हुआ शजर पे परिंदा उदास है।

बैठा हुआ शजर पे परिंदा उदास है।
देखा है आज उसने जनाजा बहार का।।
अंशु

         

Share: