सूरत

तमाम उम्र ही जलना चाराग की सूरत
किसी का होके भी रहना कमाल है कितना
अरशद साद रुदौलवी

         

Share: