अपना दामन समेट मत लेना

अपना दामन समेट मत लेना
आंसुओं का अदब ज़रूरी है

राज़िक़ अंसारी

         

Share: