उलझन

अपनी उलझन में उलझ कर भूल बैठा था तुझे
आज जो बैठा सुकूँ से याद आया तू बहुत

अरशद साद रूदौलवी

         

Share: