कशमकश में हूं

उल्फत की बात करते रहे तुम तमाम उम्र।
तेरी जफा को देख के मैं कशमकश में हूं।

©अंशु कुमारी

         

Share: