कसक

एक कसक सी बनी रही जानां,राहे इश्क़ में
हर तलब से भागती रही,सुकूं ए इश्क़ के लिए।।

         

Share: