चंद लम्हें

चंद लम्हे जो ,उनकी पहलु में गुजारे है।
इन्ही लम्हों में , छुपे दर्द सारे है।।

साथी मुख़र्जी ( टीना )

         

Share: