प्यास

कितना प्यासा है आज दरिया भी।
कतरा कतरा में प्यास बाकी है।।
,अंशु कुमारी

         

Share: