याददाश्त

भूल जाओ हमें तुम ऐसी शख्सियत नही हमारी ।
बात और होगी गर याददाश्त ही चली जाए तुम्हारी ।।

★©वन्दना★

         

Share: