रिवाज़ ए मोहब्बत

रिवाज़ ए मोहब्बत इस दौर ए ज़माना
कभी झूठे फलसफे कभी झूठा बहाना

         

Share: