सकून

सुकूँ कहीं ना मयस्सर हुआ कहाँ जाऊँ
बदन से रूह हुई है खफा कहाँ जाऊँ

अरशद साद रूदौलवी

         

Share: