दुआ

तीरगी शब की मिटा पर मिट न जाना तू कभी।
है दुआ यह चाँद मेरे तू सदा आबाद हो।।

शुभा शुक्ला मिश्रा ‘अधर’

         

Share: