वो मुश्कबू सा…

वो मुश्कबू सा मिरे आस पास रहता था
मैं जिस की चाह में हर पल उदास रहता था
भरत दीप

मुश्कबू=कस्तूरी

         

Share: