सिलबटे

बिस्तर की सिलबटे बता रही, रात का फ़साना।
मेरे पहलू से उठ क़े , तेरा यूं चले जाना।।

साथी मुख़र्जी ( टीना )

         

Share: