उजड़े शहर

सूखे हुए दरख़्तों से भी, शाख़ें नव निकलती हैं ।
हमने उजड़े शहरों में भी, महफूज़ मकाँ देखे हैं ।।

         

Share: