गुलाब

ज़िन्दगी सुर्ख गुलाबों की तरह है बिलकुल
पहले खिलती है महेकती है बिखर जाती है

अरशद साद रूदौलवी

         

Share: