तिजारत ए इश्क़

इश्क़ की तिजारत में, कितने ही घर वीराने हुए
कुछ खो गए बाज़ारों में, बाकी सब दीवाने हुए

         

Share: