तोड़ें गरूर

मन के अँधेरे में होगा कोई तो झरोखा जरूर
आओ खोलें उसे तोड़े बन्द दरवाज़े का गरूर

★ ©️ ®️ – वन्दना ★

         

Share: