बचपन

बचपन की वो आदतें वो शोखियाँ न जाने कहाँ खो जाती हैं
चांद पर दिखती थी जो अम्मा वो भी अब चरखा नहीं चलाती हैं

         

Share: