शीशा ए दिल

जमीर आता नजर इन्सान को उस में अगर अपना
कसम से देख कर आईना शर्मिन्दा बहुत होता

अरशद साद रूदौलवी

         

Share: