बाज़ार अंधों का

ज़रा हैरत में हूँ आँखों का ग़र सावन भी दिखता है
ये है बाज़ार अंधों का यहाँ दरपन भी बिकता है

अमिता शर्मा ‘ मीत ‘

         

Share: