हाथ की लकीर

हैं कई दोस्त भी दुश्मन भी जहां सारा है

मेरे हाथों की लकीरों में फ़क़त तुम ही नहीं

अरशद साद रुदौलवी

         

Share: