तेरी नज़ाकत किसी काम की नहीं

ज़ुल्म होता रहे और आँखें बंद रहें
ऐसी आदत किसी काम की नहीं

बेवजह अपनी ही इज़्ज़त उछले तो
ऐसी शराफत किसी काम की नहीं

बदवाल का नया पत्ता न खिले तो
ऐसी बगावत किसी काम की नहीं

मुस्कान की क्यारी न खिल पाए तो
फिर शरारत किसी काम की नहीं

तुम्हें छुए और होश में भी रहें तो
तेरी नज़ाकत किसी काम की नहीं

सलिल सरोज

         

Share: