बेकसी पर ग़ज़ल

यही हैं सोचा मैं ज़िंदगी की बेहिसी पर ग़ज़ल कहूँगा
अज़ाब तेरे, तेरी अज़ीयत की चाशनी पर ग़ज़ल कहूँगा

भटक रहा हूँ मैं कबसे तन्हा न हमसफर है न रौशनी है
ये सहरा सहरा भटक के यारों मैं तीरगी पर ग़ज़ल कहूँगा

न चाँद अपना न ये सितारे हैं मुझसे रूठे सभी नज़ारे
बयान कर के सभी अदावत में चाँदनी पर ग़ज़ल कहूँगा

ये फूल,खूशबू हसीन नज़ारे मेरे मुक़द्दर में ही नहीं हैं
सभी की मुझसे न जाने क्योंकर मैं दुशमनी पर ग़ज़ल कहूँगा

गरीब हूँ मैं खुदा की मर्जी क़सूर मेरा नहीं है
कुछ भी
मगर सदाक़त से बेकसी और मुफलिसी पर ग़ज़ल कहूँगा

अरशद साद रुदौलवी

         

Share: