भॅवर

फॅस गया हूँ भॅवर में कोई रास्ता मिले।
खुद को बचा तो लूँ गर कोई वास्ता मिले।
लौटकर घर अपने मैं चला तो जाऊँ,
गर मेरे इन्तजार में कोई ताकता मिले।
मेरे प्यार में ही उसने छोड़ दिया उसको,
मैं गले उसे लगाता हूँ जो हारता मिले।
उसने कहा मेरी ताकत को देख लो तुम भी,
जरूर देखूंगा जब तुम्हें कोई मारता मिले।
किसने कहा अकेला तुझे दर्द नहीं है होता,
दिखाऊँ तो उसे जो विष फाँकता मिले।।

         

Share: