सरदार लाज़मी हो असरदार तो जनाब

++ग़ज़ल ++(221 2121 1221 212 /2121 )
सरदार लाज़मी हो असरदार तो जनाब
जो चुन सके अवाम के कुछ ख़ार तो जनाब
****
ऐसा भी क्या शजर जिसे फूलों से सिर्फ़ इश्क़
कोई हो शाख शाख-ए-समरदार* तो जनाब (*फल से लदी डाली )
***
होगा नसीब में कि न हो बात और है
ता-ज़ीस्त रहती प्यार की दरकार तो जनाब
***
अहसास बर्ग-ए-गुल* से ही होते दिलों में है (*गुलाब की पंखुड़ियां )
उगते न इस ज़मीं पे ख़स-ओ-ख़ार* तो जनाब (*घास और कांटे )
***
गुंजाइश-ए-रफू रहे दिल के लिबास में
ताउम्र हो क़ुबूल न तक़रार तो जनाब
***
लाज़िम है आँख कान खुले रखिये जानिए
क्या हो रहा है अब पस-ए-दीवार* तो जनाब(*दीवार के पीछे )
***
कुछ तो निशान छोड़िये क़ायम रहे वज़ूद
चिल्ला रही है वादी-ए-कोहसार* तो जनाब (*पर्वतमाला )
***
हैरत न हो जो शेर में बू यास्मीन* की (*चमेली का फूल )
पैदा समन* करेगा समन-ज़ार** तो जनाब (*चमेली का फूल **चमेली का बाग़ )
***
मिट्टी में जिस की खेल हुए हम जवाँ ‘तुरंत’
होना वतन पे चाहिए पिंदार* तो जनाब (*गर्व )
***
गिरधारी सिंह गहलोत ‘तुरंत’ बीकानेरी
25 /10 /2018

         

Share: