कागज़ दिल ग़ज़ल

 

2212 122

फूलों से चोट खाई
दुनियाँ तेरी दुहाई ।।

दिल दे दिया उन्हीं को
जबसे नज़र मिलाई ।।

सब बज़्म में खफ़ा हैं
रुसवा हुई खुदाई ।।

चाके ज़िगर किया है
ज़ालिम तेरी जुदाई ।।

आने को पास तेरे
खुद को न रोक पाई ।।

ग़ज़लों में ढाल खुद को
अब तो स्वरा है छाई ।।

@स्वराक्षी स्वरा

         

Share: