चले जाओ

वाअदे सब तोड़ दो चले जाओ
तुम मुझे छोड़ दो चले जाओ

दिल जो बिखरा हुआ है टुकड़ों में
बस उसे जोड़ दो चले जाओ

मेरी बर्बाद सी कहानी को
इक नया मोड़ दो चले जाओ

क्यों मैं रुख़स्त करूँ इजाज़त दूं
दिल मिरा तोड़ दो चले जाओ

जिसमें है इज़तिराब की शिद्दत
वो घड़ा फोड़ दो चले जाओ

जाग जाऊं में नींद से ऐसे
साद झिंजोड़ दो चले जाओ

अरशद साद रूदौलवी

 

         

Share: