मुश्किल बहुत

ना समझने वाली बात समझ आए तो मुश्किल बहुत
राज़ छुपते छुपाते खुल जाए तो मुश्किल बहुत

दिलों को जीतना कोई खेल नहीं है साहेब
कभी जां पे बन आए तो मुश्किल बहुत

दूर से देखना तो सब हसीन लगता है
पास जा के आंख भर आए तो मुश्किल बहुत

तेरे मेरे नाम के चर्चे तो सब करे हैं
हमें जी के कभी दिखलाए तो मुश्किल बहुत

तारों को तोड़ लाना आसान सा लगे है
खुद को सितारे सा चमकाए तो मुश्किल बहुत

बात उन की कीजिए जो रोशन हैं यहां
गुमनामी कभी घर आए तो मुश्किल बहुत

         

Share: