हमारा सारा हिसाब कर दो…

हमारा सारा हिसाब कर दो
बेवफा हमको माफ कर दो

शमशान तलक साथ चलो
हम पर ये एहसान कर दो

हंसते हुए करते नही विदा
नम अपनी आंखें कर दो

ये दस्तूर है इस दुनिया के
लाश आग हवाले कर दो

गिला क्या अब लाश से
गुनाह मेरे माफ़ कर दो

..आकर्षण दुबे (अंजान)

         

Share: