आंखों से मुझे दिल में उतर जाने दो

अपनी आंखों से मुझे दिल में उतर जाने दो।
दिल की दरिया में मुझे डूब के मर जाने दो।‌

रोकना ठीक नहीं प्यार में जज़्बातों को।
तुम मुहब्बत की मुझे हद से गुजर जाने दो।

दिल की चाहत पे भला जोर कहां‌ चलता है।
टूट के इस को मुहब्बत में बिखर जाने दो।।

आज की रात कहां लौट के अब आएगी।
बीते लम्हों में कहीं मुझ को ठहर जाने दो।।

मौत आई है मुझे साथ में ले जाने को।
एक दुल्हन की तरह आज सँवर जाने दो।।

©अंशु

         

Share: