“तेरा साथ”…

°°°
आँखों में एक हसीन ख़्वाब है तेरा साथ ।
मेरे हर सवाल का ज़वाब है तेरा साथ ।
••
हर बातों को पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं ,
हर अहसास का एक किताब है तेरा साथ ।
••
वो तलाश अब जाकर कहीं खत्म हुई तुझपे ,
प्यासे के लिए एक तालाब है तेरा साथ ।
••
सही औ गलत के कुछ अनसुलझे गणित से परे ,
तसल्ली की माकूल हिसाब है तेरा साथ ।
••
हो गया है ग़म तो यक़ीनन अब कोसों दूर ,
हाथ आया हँसी का ख़िताब है तेरा साथ ।
••
मुझे संभाल के रखना , बिखर न जाऊँ कहीं ?
ज़िंदगी के पथ पे कामयाब है तेरा साथ ।
••
कितने दुआओं बाद मिले हो तुम “कृष्णा” को ,
ज़हां के हर शय से नायाब है तेरा साथ ।
°°°
— °•K.S. PATEL•°
( 25/11/2018 )

         

Share: