दिल चाहिए

दिल लगाने के लिए दिल चाहिए
वरना हम काबिल नहीं दिलदार के ।।

दूँगी बदले प्यार ही मैं प्यार के
है जगह मुझमें नहीं इनकार के ।।

प्रीत बिन तो गीत भी होती नहीं
है ग़ज़ल मुमकिन नहीं अशआर के ।।

आप मुझमें ढूँढिये न रूपसी
हम तो हैं सूरत स्वरा जी प्यार के ।।

         

Share: