वो दिवाना है मेरा किधर जायेगा

वो दिवाना है मेरा किधर जायेगा
दूर मुझ से हुआ तो वो मर जायेगा।।

ज़िन्दगी से हुआ जो तेरा सामना।
प्यार का ये नशा भी उतर जायेगा।।

अब दवा की हमे भी ज़रूरत नहीं।
वक्त सारे ही जख्मों को भर जायेगा।।

प्यार से ही खड़ा अपना परिवार है।
प्यार बिन एक दिन में बिखर जायेगा।।

वक्त किसका रूका है यहां पर कहो।
वक्त अपना बुरा भी गुज़र जायेगा।।

वो‌ गरीबी में पलता रहा है मगर।
उस को मौका मिला तो निखर जायेगा।।

सत्य की राह पर जो चलेगा सदा।
अंशु उसका तो जीवन संवर जायेगा।

@अंशु

         

Share: